शुक्रवार, 18 मई 2012

आज की बुलेटिन

ब्लॉग बुलेटिन नाम का देखा मैने ब्लॉग
मन माफिक ही टिप्पणी रखता अपने पास
रखता अपने पास,अथित भी सदा बुलाता
मगर अथित का मान नही  यह रख है पाता
बचना इससे यार ,भूल कर अथित न बनाना
अगर हिट हो गई पोस्ट ,उसे फिर वहां न दिखना
vijay

5 टिप्‍पणियां:

  1. विजय जी,.....मुझे भी अच्छा नही लगा,.....ऐसा करके उन्हों ने अपनी छोटी मानसिकता का परिचय दिया है,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,
    MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस सन्दर्भ में तुलसी दास ने बहुत सही कहा है ..
    आवत ही हरषे नहीं नैनन नहीं स्नेह
    तुलसी तहां न जाइए कंचन बरसे मेह

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं